ukraine russia war: लॉकडाउन में 1400 किलोमीटर स्कूटर चलाकर बेटे को घर लाई थी यह मां, अब यूक्रेन में फंसे लाडले को कैसे निकाले

Advertisement

तेलंगाना के निजामाबाद जिले के सरकारी स्कूल में शिक्षिका रजिया बेगम अपने बेटे निजामुद्दीन अमन की सुरक्षित वापसी के लिए प्रार्थना कर रही है। निजामुद्दीन यूक्रेन के सूमी शहर में एमबीबीएस प्रथम वर्ष का छात्र है। सूमी रूसी सीमा के करीब स्थित है और अधिकांश भारतीय छात्र सूमी स्टेट मेडिकल यूनिवर्सिटी से ताल्लुक रखते हैं।
रजिया बेगम ने रूस और यूक्रेन के बीच तनावपूर्ण गतिरोध के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव, राज्य के गृह मंत्री मोहम्मद महमूद अली से उनके बच्चे और अन्य भारतीय छात्रों की सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाने का आग्रह किया।

Advertisement

 

ukraine russia war

महिला ने गुरुवार को पीटीआई को बताया कि निजामुद्दीन अमन बंकरों में बंद है और फोन पर उससे बात हो पा रही है। “उसने मुझे आश्वस्त करने के लिए फोन किया कि वह ठीक है और मुझे उसके बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है, जिस जगह वह अभी रह रहा है, वहां से परिवहन संपर्क कट गया है।

लॉकडाउन में बेटे के साथ 1400 KM का सफर

दो साल पहले, रजिया बेगम ने कोरोना लॉकडाउन लागू होने के बाद पड़ोसी आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले में फंसे अपने बेटे को वापस लाने के लिए एक लंबी और कठिन यात्रा की थी। स्थानीय पुलिस की अनुमति के साथ वह अकेले ही नेल्लोर गई और अपने छोटे बेटे के साथ लौटी थी। एक अनुमान के मुताबिक, रजिया ने स्कूटर से 1400 किलोमीटर का सफर तय किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here