Two Wheeler Loan: टू-व्हीलर लोन के लिए नहीं काटने पड़ेंगे चक्कर, बस इन बातों का रखें ध्यान

Advertisement

Two Wheeler Loan: अगर आप बाइक लेने का मन बना रहे हैं और आपके पास इसके लिए पर्याप्त पैसे नहीं है, तो आप लोन लेने के बारे में विचार कर सकते हैं. टू-व्हीलर लोन अपने बाइक के सपनों को पूरा करने के सबसे अच्छे और आसान तरीकों में से एक है. आज के समय में बाइक के लिए टू-व्हीलर लोन लेना काफी आसान हो गया है. क्रेडिट स्कोर के अनुसार, आपको बाइक की कीमत का लगभग 85 प्रतिशत तक लोन मिल सकता है. वहीं, कुछ कंपनियां तो 90-95 प्रतिशत तक लोन देती हैं. टू-व्हीलर लोन के माध्यम से आप बाइक खरीद सकते हैं और सस्ती EMI में लोन का भुगतान कर सकते हैं.

Advertisement

OTO के को-फाउंडर सुमित छाजेद कहते हैं, “आज के समय में, NBFC और लेंडर्स ने इस प्रोसेस को पूरी तरह डिजीटल कर दिया है, जिसके चलते अब अप्लाई करना काफी आसान हो गया है. इसलिए, अगर आप लोन के लिए पात्र हैं, तो आपका टू-व्हीलर लोन एक बार में अप्रुव हो जाएगा.” कम से कम डॉक्यूमेंट के साथ आपका टू-व्हीलर लोन फौरन अप्रुव हो सकता है. लोन के लिए अप्लाई करते समय कुछ बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है, जैसे कि लोन की अवधि, इंटरेस्ट रेट, पेमेंट की शर्तें आदि. इस बात का भी ध्यान रखें कि अगर आप EMI नहीं देते हैं तो कंपनी आपके व्हीकल को जब्त कर सकती है और उसकी लागत की वसूली भी कर सकती है. आइए जानते हैं कि टू-व्हीलर लोन के लिए अप्लाई करते समय किन बातों का ध्यान रखा जाना चाहिए, ताकि वह एक बार में अप्रुव हो जाए.

 

सही जानकारी भरें

लोन एप्लिकेशन में डिटेल भरते समय सावधानी रखना जरूरी है. आप चाहे ऑनलाइन माध्यम से अप्लाई करें या ऑफलाइन. जानकारी भरने में कोई गलती न हो इस बात का खास ध्यान रखें. छाजेद बताते हैं, “यह छोटी बात लग सकती है, लेकिन गलती के चलते लोन अप्रुव होने में ज्यादा समय लग सकता है. इसलिए डिटेल भरते करते समय सावधान रहें.”

एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया

अप्लाई करने से पहले चेक कर लें कि आप एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया के हिसाब से पात्र हैं या नहीं. यह पहला और सबसे अहम कदम है. अगर आप चाहते हैं कि आपका लोन फौरन अप्रुव हो जाए तो ऐसा करना जरूरी है. हालांकि, आवेदक की पात्रता की जांच करने के लिए अलग-अलग लेंडर्स ने अलग-अलग क्राइटेरिया बना रखा है. लोन के लिए आवेदन करते समय आमतौर पर इन शर्तों को पूरा करना जरूरी होता है.

निवास – आपके पास एक स्टेबल रेसिडेंशियल एड्रेस होना चाहिए और कम से कम यह भी जरूरी है कि 12 महीने की अवधि तक आप भारत के नागरिक हों.

आयु सीमा – लोन के लिए आवेदन करते समय आवेदक की आयु कम से कम 18 साल और लोन मैच्योरिटी के समय अधिकतम 65 वर्ष होनी चाहिए.

सिबिल स्कोर – 650+ को एक अच्छा सिबिल स्कोर माना जाता है.

एम्प्लॉयमेंट स्टेटस – स्टेबल एम्प्लॉयमेंट स्टेटस का होना जरूरी है. या अगर आपका खुद का रोजगार है, तो आपकी कंपनी का आईटी रिटर्न लेंडर के सामने प्रस्तुत करना जरूरी होता है.

 

इन जरूरी दस्तावेजों को रखें अपने पास

केवाईसी प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए, आपको दस्तावेज़ों को संभाल कर रखना चाहिए. इन दस्तावेजों में आइडेंटिटी वेरिफिकेशन के लिए आईडी और एड्रेस प्रूफ, सैलरी स्लिप, आईटी रिटर्न और आपकी रेगुलर इनकम को वेरिफाई करने के लिए बैंक स्टेटमेंट शामिल हैं.

EMI की गणना करें

अगर आप एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को पूरा करते हैं, अपने EMI की गणना कर लें. छाजेड कहते हैं, “हम महीने EMI के रूप में भुगतान किए जाने वाले अमाउंट की गणना कर लें. टेन्योर, प्रिंसिपल अमाउंट और इंटरेस्ट रेट के आधार पर ईएमआई का अनुमान लगाने के लिए ईएमआई कैलकुलेटर को ऑनलाइन एक्सेस किया जा सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here