भारत में लग्जरी कारों की बिक्री बढ़ी, मर्सिडीज, ऑडी और BMW के प्रीमियम मॉडल की है ज्यादा डिमांड

Advertisement

नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। लग्जरी कार निर्माता कंपनियां जैसे मर्सिडीज-बेंज, ऑडी और बीएमडब्ल्यू भारत में प्रीमियम स्तर पर अपने मॉडलों की मांग में तेजी देख रहे हैं, जिससे इनके कारों का वेटिंग पीरियड बढ़ रहा है। कंपनियां अपने संबंधित पोर्टफोलियो के वॉल्यूम-सेगमेंट की तुलना में प्रीमियम-एंड मॉडल में अधिक वृद्धि देख रही हैं। ऑडी इंडिया के प्रमुख बलबीर सिंह ढिल्लों ने बताया कि पिछले कुछ महीनों में 70-75 लाख रुपये से ऊपर की प्रीमियम कारो की काफी डिमांड है।

Advertisement
लग्जरी कारों पर पैसा खर्च करे लोग

उन्होंने आगे कहा कि बड़े पैमाने पर लोग, जो कारों के इन सेटों (उद्योगपति, खेल हस्तियों और बॉलीवुड हस्तियों) को खरीदने में सक्षम हैं, वास्तव में ऐसे लोग आगे आ रहे हैं और लक्जरी कार खरीदने पर खर्च कर रहे हैं। इन कारों की मांग वास्तव में अच्छी है। ऑडी की इलेक्ट्रिक कार ई-ट्रॉन का उदाहरण देते हुए ढिल्लों ने कहा कि हम इन कारों को 1 करोड़ रुपये से अधिक में बेच रहे हैं, फिर भी इन कारों की डिमांड हैं। ये भारत में आने से पहले ही बिक जाती हैं। यह इसलिए भी है, क्योंकि निश्चित रूप से आपूर्ति की प्रॉब्लम है, लेकिन फिर भी ऐसी कारों के ऑर्डर अच्छे मिल रहे हैं। उन्होंने बताया कि ई-ट्रॉन या क्यू 8 (एसयूवी) पर बहुत सकारात्मक मांग है। इन कारों के लिए प्रतीक्षा अवधि बढ़ गई है। एक महीने से दो महीने तक इंतजार करने वाले लोगों को अब इस कार के लिए चार से छह महीने तक वेट करना पड़ेगा।

डिमांड के कारण बढ़ा मर्सिडीज-बेंज कारों का वेटिंग पीरियड

इसी तरह मर्सिडीज-बेंज इंडिया के प्रबंध निदेशक और सीईओ मार्टिन श्वेंक ने कहा कि दुर्भाग्य से कुछ कारों के लिए हमारे ग्राहकों को प्राप्त करने में महीनों लगेंगे, क्योंकि डिमांड बहुत ज्यादा है। विशेष रूप से जीएलएस और जीएलई (एसयूवी) की डिमांड बहुत ज्यादा है। इसलिए इन गाड़ियों का वेटिंग पीरिएड बहुत ज्यादा बढ़ गया है। उन्होंने बताया कि वैश्विक स्तर पर मांग इतनी अधिक है कि उन्हें इसे साल के अंत तक कारों की डिलीवरी मुश्किल लग रही है। उन्होंने कहा कि 2022 की पहली तिमाही में कंपनी के पास पूरे पोर्टफोलियो में 4,000 से अधिक यूनिट्स का कुल ऑर्डर बैंक था।

मर्सिडीज-बेंज इंडिया ने 2021 में 1 करोड़ रुपये से अधिक कीमत के 2,000 से अधिक टॉप-एंड वाहनों की बिक्री की थी। इन कारों में एस-क्लास मेबैक, जीएलएस मेबैक, टॉप-एंड एएमजी, एस-क्लास और जीएलएस एसयूवी शामिल हैं। यह 2022 में हाई-एंड सेगमेंट वॉल्यूम में 20 प्रतिशत की वृद्धि की उम्मीद करता है।

बीएमडब्ल्यू के प्रीमियम वाहनों की डिमांड बढ़ी

एक अन्य लक्जरी कार निर्माता बीएमडब्ल्यू भी अपने प्रीमियम वाहनों के सेगमेंट में तेजी से विकास देख रही है। बीएमडब्ल्यू ग्रुप इंडिया प्रेसीडेंट विक्रम पावाह ने कहा ने कहा कि हम एसएवी (स्पोर्ट्स एक्टिविटी व्हीकल) एक्स3, एक्स4 और एक्स7 मॉडल के साथ बहुत मजबूत हैं। हम उस सेगमेंट में 40 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज कर रहे हैं। वे अब हमारे पोर्टफोलियो के 50 प्रतिशत से अधिक हैं। बीएमडब्ल्यू इंडिया के एसएवी सेगमेंट, जिसकी कीमत 61 लाख रुपये से ऊपर है, उस सेगमेंट ने पहली तिमाही में 1,345 यूनिट्स की बिक्री की, जो लगभग 40 प्रतिशत की वृद्धि थी। कंपनी की कुल 2,500 इकाइयों की बुकिंग है, जिसमें इसकी कॉम्पैक्ट लग्जरी कार मिनी भी शामिल है, जिसकी प्रतीक्षा अवधि लगभग 3 महीने है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here