जाट आंदोलन में उम्रकैद की सजा काट रहे दलजीत सिहाग को मारने की कोशिश, उनकी गाड़ी पर ताबड़तोड़ फायरिंग

Advertisement

हांसी. जाट आरक्षण आंदोलन मामले में आजीवन कारावास सजा काट रहे दलजीत सिहाग (Daljeet Sihag) की गाड़ी पर हिसार-दिल्ली हाईवे पर सैनीपुरा पुल के पास वीरवार शाम को अज्ञात हमलावरों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी. हमलावरों ने दजलीत सिहाग की गाड़ी के आगे अड़ा कर रास्ता रोककर फायरिंग की. हमलावरों ने सिहाग की गाड़ी पर करीब 15 राउंड फायर किए. इस फायरिंग में पांच युवकों को गोली लगी है. इनमें दलजीत सिहाग, खेड़ी चौपटा निवासी अमित बूरा, खेदड़ निवासी दीपक, चिड़ोद निवासी दीपक व राजस्थान के कालवा निवासी राकेश शामिल हैं.

Advertisement

इसके बाद सिहाग का ड्राइवर गाड़ी मौके से भगाकर वहां से तीन किलोमीटर स्थित अनाज मंडी पुलिस चौकी पहुंच गया. जिसके बाद घायलों को उपचार के लिए हांसी के सरकारी अस्पताल लाया गया, जहां से उन्हें हिसार रेफर कर दिया गया.

दलजीत सिहाग सिसाए गांव से भिवानी के प्रेम नगर किसी कार्य के लिए अपने चार दोस्तों के साथ गाड़ी में सवार होकर जा रहा था.

चार दोस्तों के साथ घूमने निकला था सिहाग

जानकारी के अनुसार दलजीत सिहाग सिसाए गांव से भिवानी के प्रेम नगर किसी कार्य के लिए अपने चार दोस्तों के साथ गाड़ी में सवार होकर जा रहा था. जब वे नेशनल हाइवे पर सैनीपुरा गांव के समीप स्थित पुल के नीचे पहुंचे तो एक गाड़ी ने उनका रास्ता रोक लिया. जब तक वे कुद समझ पाते हमलावारों ने उन पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी. हमलावारों ने गाड़ी के टायर में भी गोली मार दी ताकि वे यहां से भाग न सके.

इस घटना में दलजीत सिहाग के सहित चार लोगों को गोली लगी है. 22 वर्षीय दीपक, 25 वर्षीय दीपक के हाथ, पैर और पीठ में गोली लगी है. इसके अलावा 26 वर्षीय राकेश के कान के पास गोली लगी है, जिसकी हालत गंभीर बताई जा रही है. वहीं आम आदमी पार्टी के संगठन मंत्री 32 वर्षीय अमित बूरा और दलजीत सिहाग के हाथ व पैर पर गोली लगी है. डाक्टरों के अनुसार चारों घायलों की हालत खतरे से बाहर हैं. घायल राकेश को आइसीयू ले जाया गया है जहां उनका ईलाज चल रहा है.

पैरोल पर जेल से बाहर आए दलजीत सिहाग पर सिसाए गांव से भिवानी के प्रेम नगर के रास्ते में जब वे नेशनल हाइवे पर सैनीपुरा गांव के समीप स्थित पुल के नीचे पहुंचे तो एक गाड़ी ने उनका रास्ता रोक लिया.

गाड़ी को पुलिस चौकी में ले जाकर बचाई जान

घटना के बाद दलजीत के ड्राइवर ने देखा कि सभी को गोलियां लग चुकी हैं तो उसने गाड़ी घुमाई और मौके से गाड़ी को भगा ले गया. उसने गाड़ी अनाज मंडी पुलिस चौकी में खड़ा कर दी. हमलावरों ने यहां भी पीछा नहीं छोड़ा. हमलावर जींद रोड़ तक गाड़ी का पिछा करते रहे. सूचना मिलने ही पुलिस टीम मौके पर पहुंच गई. पुलिस ने मौके पर करीब एक दर्जन गोली के खोल बरामद किए हैं.

दलजीत सिहाग जाट आरक्षण मामले में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है. वह 42 दिन की पैरोल पर आया हुआ था. दलजीत सिहाग की पैरोल 7 मई को खत्म होने वाली थी.

गाड़ी धीरे होने पर अचानक सामने आ गए हमलावार

इस हादसे में घायल अमित बूरा ने बताया कि हम सभी लोग भिवानी के प्रेमनगर में जा रहे थे. सैनीपुरा पुल के पास मोड़े तो गाड़ी धीमी हो गई. इसी दौरान बदमाशों ने आगे और पीछे गाड़ी लगा दी. आगे की गाड़ी से करीब 10 से 12 लोग उतरे. इतने ही बदमाश पीछे की गाड़ी में थे. सभी ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी. सभी के पास छोटे हथियार थे. हम गाड़ी में सात लोग थे, जिनमें पांच को गोली लगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here